नई दिल्ली. 26/11 मुंबई हमलों के सरकारी गवाह डेविड कोलमैन हेडली की दूसरे दिन की गवाही पूरी हो गई है. जानकारी के अनुसार हेडली ने कोर्ट को बताया कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई और आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा में जबर्दस्त तालमेल है.
 
हेडली ने बताया कि वह आईएसआई के लिए काम करता था और पाकिस्तानी सेना के संपर्क में था. उसने खुलासा किया कि भारतीय रक्षा वैज्ञानिकों की एक बैठक होने वाली थी और उसी बैठक को निशाना बनाकर हमला किया जाना था. हमले के लिए होटल ताज का नक्शा भी तैयार किया गया था. यह लश्कर का पहले प्लान था पर बाद में इसे रद्द कर दिया गया.
 
हेडली के बयान के बाद पाकिस्तान के खिलाफ नए-नए सबूत सामने आ रहे हैं फिर भी वह पठानकोट एयरबेस पर आतंकी हमले को लेकर भारत के सबूतों को खारिज करने में जुटा है.
 
क्या पाकिस्तान की नजर में मसूद अज़हर आतंकी नहीं, बल्कि मासूम है ? 26/11 से लेकर पठानकोट तक पाकिस्तान की नीयत ना-पाक क्यों है?
 
इंडिया न्यूज के खास शो ‘बड़ी बहस’ में इन्हीं सवालों पर होगी बहस.
 
वीडियो क्लिक कर देखिए पूरा शो