नई दिल्ली. जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे इस वक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चुनाव क्षेत्र वाराणसी में हैं. टोक्यो से दिल्ली वाया वाराणसी की उनकी यात्रा भारत और जापान के रिश्तों के लिहाज से बेहद खास मानी जा रही है.
 
प्रधानमंत्री मोदी और शिंजो आबे की मौजूदगी में भारत-जापान के बीच सिविल न्यूक्लियर डील साइन हुई, तो जापान ने मोदी के दो ड्रीम प्रोजेक्ट- बुलेट ट्रेन और मेक इन इंडिया में अपनी बड़ी हिस्सेदारी का एलान किया. ये तय हो गया कि भारत की पहली बुलेट ट्रेन जापान की मदद से ही दौड़ेगी.
 
भारत के साथ जापान की इस दोस्ती को चीन अपने लिए चुनौती मान रहा है, जबकि वो खुद पाकिस्तान के साथ इससे भी आगे बढ़कर दोस्ती निभा रहा है. अब ये बड़ी बहस का मुद्दा है कि क्या भारत-जापान दोस्ती चीन-पाकिस्तान पर भारी पड़ेगी? जापान की मदद से भारत की तस्वीर कितनी बदलेगी ?
 
वीडियो पर क्लिक करके देखिए पूरा शो: