नई दिल्ली. बरेली के व्यापारी प्रतीक जैन के घर लूट हुई. लूट के लिए न ही दरवाज़ा तोड़ा गया और न ही ताला. पुलिस के सामने यह साफ़ था कि किसी जानकार ने ही लूट की वारदात को अंजाम दिया है. क्योंकि तिजोरी की चाभी प्रतीक के गले में रहती थी और यह बात लूट करने वाले को कोई नजदीकी ही बता सकता था. मास्टरमाइंड में आज पेश है लूट की एक ऐसी कहानी जिसमें जिस इंसान के पास लूट के सारे मोटिव थे वो अपराधी नहीं है. 

प्रतीक जैन का बेटा अभिनव सट्टेबाज है और उसपर खूब सारा कर्जा भी है. प्रतीक ने उसे और पैसा देने से मना कर दिया है ऐसे में लूट का सबसे मजबूत मोटिव उसी के पास है. शक के घेरे में घर के सभी लोग हैं. ऐसे में कौन है इस लूट के पीछे का असली मुजरिम, यह जानने के लिए देखिए मास्टरमाइंड..