नई दिल्ली. बेशक आपके स्मार्टफोन ने आपकी ज़िन्दगी को आसान बनाया हो लेकिन यह उससे कई ज्यादा नुक्सान आपको पहुंचा रहा है. दरअसल स्मार्टफोन अब गर्दन से जुडी समस्याओं की सबसे बड़ी वजह बन गया हैं.
 
इन सबमे सबसे बड़ी समस्या टेक्स्ट नेक की है. हो सकता हैं इससे पहले आपने इस टर्म को ना सुना हो. यह एक बिलकुल ही नई टर्म है जो कि स्मार्टफोन पर घण्टों टेक्स्ट मैसेजिंग करने की वजह से गर्दन में होने वाली समस्याओं को देखते हुए ईजाद हुई है. दुःख बात यह है कि यह टर्म जितनी नई है उतनी ही तेजी से इस बीमारी की चपेट में आ रहे हैं. 
 
 
इस तरह नुक्सान पहुंचा रहा है टेक्स्ट नेक
 
हद से ज्यादा स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने से आपकी गर्दन के हिस्से की रीढ़ की हड्डी का आकर बुरी तरह से बिगड़ जाता है. इससे सर्वाइकल स्पाइन पर बहुत बुरा असर पड़ता है और यहीं से समस्याओं की शुरुआत होती है. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि एक इंसान के सर का वजन 10 या 12 पाउंड होता हैं. ऐसे में जब-जब गर्दन झुकती है तब-तब यह भार बढ़ जाता है.
 
इसका असर सर्वाइकल स्पाइन पर पड़ता है. जब आपका सर 15˚ के कोण पर झुका होता है तो यह वजन 27 पाउंड तक पहुंच जाता है, इसी तरह  30˚ के कोण पर वजन 40 पाउंड,  60˚ के कोण पर 60 पाउंड तक एक वजन आपकी गर्दन पर पड़ता है. बता दें कि यह ऐसा ही है जैसे आठ साल के किसी बच्चे  को रोज कुछ घंटों के लिये आपके सर पर लटका दिया जाए. इस तरह जितना देर आप अपनी गर्दन को झुकाए रखेंगे यह नुक्सान उतना ही बढता जाएगा. 
 
इस तरह बचें
 
इस से बचने का एक सीधा सा तरीका यह है कि आप कम से कम गर्दन को झुकाएं और स्मार्टफोन का इस्तेमाल कम करें. अगर ऐसा संभव नहीं हो तो स्मार्टफोन को उस कोण पर रख कर इस्तेमाल करें जहां आपको गर्दन झुकानी ना पड़े.