सूरत. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर द्वारा खुद को नीच आदमी और असभ्य आदमी कहने पर गुजरात के सूरत में चुनावी रैली में कहा कि 18 दिसंबर को जनता उनको जवाब दे देगी. पीएम मोदी ने कहा, ‘ये लोग हमें गधा, नीच, गंदी नाली का कीड़ा कह रहे हैं, गुजरात की जनता इनको सटीक और खतरनाक जवाब देगी. 18 दिसंबर को जनता बताएगी कौन है नीच.’ साथ ही उन्होंने कहा कि, ‘‘श्रीमान मणिशंकर अय्यर ने आज कहा कि मोदी नीच है .मोदी नीच जाति का है. क्या यही भारत की महान परंपरा है? ये गुजरात का अपमान है. मुझे तो मौत का सौदागर तक कहा जा चुका है. गुजरात की संतानें इस तरह की भाषा का तब जवाब दे देगी, जब चुनाव के दौरान कमल का बटन दबेगा. मुझे भले ही नीच कहा है. लेकिन आप लोग अपनी गरिमा मत छोड़िएगा.’’ 

बता दें कि आज ही सुबह पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर ने एक विवादित बयान दिया था. अय्यर ने कहा था ‘मुझे लगता है कि ये आदमी बहुत नीच किस्म का आदमी है, इसमें कोई सभ्यता नहीं है, और ऐसे मौके पर इस किस्म की गंदी राजनीति करने की क्या आवश्यकता है.’  मणिशंकर अय्यर ने यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उस बयान पर कहा था जिसमें उन्होंने बताया था कि देश के निर्माण में बाबा साहब अंबेडकर की भूमिका को कम करने की कोशिश की गई. लेकिन यह कोशिश असफल रही क्योंकि जिस परिवार (गांधी परिवार) के लिए ये किया गया, बाबा साहब अंबेडकर का प्रभाव लोगों पर उससे ज्यादा था.

इसके अलावा मोदी ने कहा कि ‘काम यानी कारोबार के दिन भी इतने लोग यहां आए. इसके लिए शुक्रिया. आप ये बताइए कि क्या यहां ओखी तूफान आया. सूरत के लोगों का दिल से आभार. पूरे देश में विकास पर चर्चा हो रही है. गुजरात के विकास की चर्चा हमेशा से होती रही है. पहले लोग कहते थे कि गुजरात पीछे है, अब जब वो बाकी राज्यों से आगे निकल गया है तो लोगों को हजम नहीं हो रहा है.’

गुजरात चुनाव को लेकर पीएम मोदी ने कहा कि ‘गुजरात में ओखी तूफान का हल्ला था, लेकिन आया तो नहीं. यहां जो सपने देख रहे हैं वो भी नहीं आएंगे. मैं गुजरात का सीएम था तो लोग कई तरह के इल्जाम लगाते थे. पहले गुजरात ने भरोसा किया अब देश कर रहा है. उन्होंने तो सरदार पटेल की धरती का भी सम्मान नहीं किया. हमारा ट्रैक रिकॉर्ड रहा है कि हमने विकास को सामने लाकर दिखाया है. ये बीजेपी की कुशलता और ईमानदारी का प्रतीक है. हम 10 हजार करोड़ से एक लाख करोड़ के बजट तक राज्य को ले आए हैं. ये तो आठवीं का बच्चा भी समझता है. फिर तो सवा सौ करोड़ भारतीयों की बात हो रही है. गुजरात और देश ही मेरा मालिक है.’

बता दें कि इससे पहले साल 2014 के लोकसभा चुनाव के प्रचार के समय जब पीएम मोदी ने अमेठी में कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उसपर गुस्से की राजनीति का आरोप लगाया था तब पलटवार कांग्रेस की ओर से प्रियंका गांधी ने कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस ‘नीच राजनीति’ का जवाब जनता उनको सभी बूथों से देगी. प्रियंका के इस बयान पर पीएम मोदी ने कहा था कि ‘मैं सामाजिक रूप से निचले वर्ग से आया हूं इसलिए मेरी राजनीति उन लोगों के लिए ‘नीच राजनीति’ ही होगी. कुछ लोगों को यह नजर नहीं आता होगा पर निचली जातियों के त्याग, बलिदान और पुरुषार्थ की देश को इस ऊंचाई पर पहुंचाने में अहम भूमिका है.’ कहा जाता कि जाति को लेकर पीएम मोदी के इस कथन का उनकी जीत में अहम योगदान रहा था. 

कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर के बिगड़े बोल, पीएम मोदी को बताया नीच आदमी

राहुल गांधी का पीएम मोदी से सवाल, पूछा क्या यही है आपके स्वास्थ्य प्रबंध का कमाल ?