बेंगलुरु. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस जीएसटी विधेयक, भूमि विधेयक जैसे मुद्दों पर सरकार से बात करना चाहती है, लेकिन सरकार ही विपक्ष के साथ बात नहीं करना चाहती. राहुल ने कहा, “विपक्ष की मुख्य भूमिका संसद में बातचीत की होती है. समस्या यह है कि केंद्र सरकार बातचीत नहीं चाहती.
 
राहुल ने कहा मैंने कई बार संसद में देखा है कि जब हमारे नेता बोलते हैं तो उनका माइक्रोफोन बंद रहता है. उन्होंने कहा, “लोकतंत्र का अर्थ ही संवाद है. यह जरूरी है कि इसे होने दिया जाए.”
 
राहुल ने कहा, “भूमि विधेयक पर सरकार का रुख हमें संसद से निकाल देने का था. जब हमारे नेता मल्लिकार्जुन खड़गे बोलते थे तो वे माइक बंद कर देते थे. सरकार का यह आचरण ठीक नहीं है. सरकार को यह स्वीकार करनी होगी कि कांग्रेस के अपने अलग विचार हैं.” उन्होंने कहा, “हम आपको सूट-बूट से बचाना चाहते हैं.” 
 
राहुल ने कहा, “जीएसटी विधेयक में कुछ बातें हैं, जिन्हें हम बदलना चाहते हैं. हम आपकी (लोगों की) बेहतरी के लिए कर की अधिकतम सीमा का निर्धारण करना चाहते हैं.”