नई दिल्ली. मूडीज इनवेस्टर्स सर्विस  ने बुधवार को अपनी एक रिपोर्ट में कहा कि अगर भारतीय संसद में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) और भूमि विधेयक पारित नहीं हो पाते हैं तो इससे भारत में निवेश मुश्किल में पड़ सकता है.  
 
मूडीज के उपाध्यक्ष विकास हलन ने एक रिपोर्ट में कहा, “संसद के ऊपरी सदन में विधेयकों के पारित होने की संभावना काफी मुश्किल है, जहां सत्ता पक्ष अल्पमत में है. इन सुधारों को लागू करने में असफल रहने से सुस्त वैश्विक विकास के इस दौर में निवेश प्रभावित हो सकता है.”
 
उन्होंने कहा,  ‘मोदी सरकार  अगर दिल्ली और बिहार की तरह विधानसभा चुनाव में हारती रही तो ऊपरी सदन में उसे बहुमत हासिल नहीं हो सकता है. विपक्ष विधेयकों को पारित होने देगी, इसकी संभावना कम है.’ बता दें कि जीएसटी के लिए संविधान संशोधन विधेयक लोकसभा में पारित हो चुका है  लेकिन वह राज्यसभा में लंबित है.
 
मूडीज ने कहा कि सुस्त वैश्विक विकास दर और अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा दर बढ़ाने की संभावना का भी भारतीय कंपनियों पर बुरा असर होगा. हलन ने कहा, “कंपनियों पर डॉलर के मुकाबले रुपये के अवमूल्यन और कमोडिटी मूल्य में आई कमी का असर हो सकता है. इनके कारण देश के निर्यात पर असर पड़ रहा है.’