पटना. गांधी मैदान में नीतीश कुमार के शपथग्रहण समाहरोह में लालू प्रसाद यादव के दोनों बेटे तेजप्रताप और तेजस्वी यादव ने शपथ ली है लेकिन तेज प्रताप यादव ने शपथ पढ़ते वक्त गलती कर दी जिसके बाद राज्यपाल रामनाथ कोविंद ने उन्हें दौबारा शपथ लेने को कहा. 
 
ऐसा तब हुआ जब राज्यपाल शपथ को पढ़ रहे थें और तेज प्रताप को इसे दोहराना भर था लेकिन तेजप्रताप ने अपेक्षित की जगह उपेक्षित शब्द का इस्तेमाल कर दिया. तेज प्रताप के ऐसा करने पर थोड़ी देर के लिए ही सही लेकिन मंच पर असहज स्थिति जरूर पैदा हो गई.
 
नीतीश ने बिहार के 34वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली है. अभी तक मधुबनी के अलीनगर से आरजेडी विधायक अब्दुल बारी सिद्दीकी, जेडीयू नेता बिजेंद्र प्रसाद यादव, जेडीयू नेता राजीव रंजन सिंह उर्फ लल्लन सिंह, जेडीयू नेता महेश्वर हजारी, जेडीयू नेता कृष्ण नंदन प्रसाद वर्मा, आरजेडी नेता चंद्रिका राय, आरजेडी नेता आलोक मेहता, और जेडीयू नेता जय कुमार सिंह ने भी मंत्रिपद की शपथ ले चुके हैं
 
कौन-कौन हैं शामिल
 
शपथ ग्रहण समारोह में कई राज्यों के मुख्यमंत्री और बड़े नेता शामिल हुए, जिनमें पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा, कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, फारुख अब्दुल्ला, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, सीपीएम के नेता सीताराम येचुरी के नाम शामिल हैं.
 
केंद्र सरकार के प्रतिनिधि के तौर पर दो केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू और राजीव प्रताप रूडी भी मौजूद थे. इस बार बिहार विधानसभा चुनावों में महागठबंधन को 178 सीटें मिली थीं, जिसमें 80 आरजेडी, जेडीयू के 71 और कांग्रेस को 27 सीटें मिली हैं.