नई दिल्ली. वाटरएड इंडिया ने केंद्र और राज्य सरकारों से आग्रह किया है कि वे सभी को स्वच्छता के दायरे में लाने के लिए काम करें. भारत में 60.4 फीसदी लोगों के पास निजी शौचालय नहीं है. यह आग्रह वाटरएड इंडिया की एक रिपोर्ट के मद्देनजर किया गया है जिसमें बताया गया है कि भारत में सबसे अधिक लोग सफाई व्यवस्था से वंचित हैं.
 
रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 60.4 फीसदी लोगों के पास निजी शौचालय नहीं है. दुनिया के किसी भी देश से अधिक लोग (77 करोड़ 40 लाख) आज भी सफाई व्यवस्था का इंतजार कर रहे हैं. प्रति वर्ग किलोमीटर के हिसाब से सबसे अधिक लोग खुले में शौच भारत में ही करते हैं.
 
रिपोर्ट के मुताबिक घरों में स्वच्छता के मामले में सबसे बुरी स्थिति दुनिया के सबसे नए राष्ट्र दक्षिण सूडान की है. इसके बाद नाइजर, टोगो और मैडागास्कर का नंबर है.
 
रिपोर्ट में कहा गया है कि  डायरिया जैसी बीमारियों से निपटने के लिए भी यह बेहद जरूरी है  कि अच्छी सफाई व्यवस्था हो और यह सुनिश्चित करना की समुदाय में सभी लोग शौचालय का इस्तेमाल करते हैं.
 
IANS