हाजीपुर. नीतीश कुमार के मुख्यमंत्री पद के शपथ ग्रहण से पहले बिहार के वैशाली में सड़क हादसे के बाद बुधवार को हिंसा भड़क गई. हिंसा को शांत करने के लिए पुलिस को गोलाबारी करनी पड़ी, जिसमें दो व्यक्ति घायल हो गए. गुस्साई भीड़ ने पुलिस पर ही हमला करना शुरू कर दिया. हमले में  थाने (ओपी) के प्रभारी अजीत कुमार की मौत हो गई और तीन लोगो घायल हो गए. हिंसा में अब तक दो लोगों की मौत हो गई है. हालांकि, हालात अभी भी काबू से बाहर हैं.  गांव में पुलिस वाले नहीं जा पा रहे हैं.
 
पुलिस के बताया, ”मंगलवार को अगरपुर जी ए स्कूल के पास एक वैन एक घर में घुस गई थी, जिससे दो व्यक्तियों की मौत हो गई. इस दुर्घटना के बाद दो गुटों में झड़प हो गई और इलाके में तनाव का माहौल बन गया. पुलिस अधिकारियों ने मंगलवार को किसी तरह से मामले को शांत कराया. बुधवार सुबह एक बार फिर दोनों गुट आमने-सामने आ गए. कुछ लोगों ने वैन के ड्राइवर के घर में आग लगा दी. पुलिस जब घटनास्थल पर पहुंची, तो हिंसक लोगों ने पुलिस पर पत्थरबाजी शुरू कर दी.”
 
पुलिस ने बताया, ”भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने गोलीबारी की, इस दौरान दो लोग घायल हो गए. उसके बाद भीड़ ने पुलिस ने पर हमला कर दिया. पत्थरबाजी में बेलसर सहायक थाने के प्रभारी अजीत कुमार समेत चार पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हो गए. सभी घायलों को पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां थानाध्यक्ष की मौत हो गई.
 
अपर पुलिस महानिदेशक (विधि-व्यवस्था) आलोक राज ने बताया कि लालगंज थाना इलाके में अतिरिक्त सुरक्षा बल की तैनाती की गई है. पूरे मामले की जांच प्रारंभ कर दी गई है. उन्होंने बताया कि क्षेत्र में तनाव है, परंतु स्थिति नियंत्रण में है.