नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को कहा कि उनकी सरकार ने सत्ता में आने के बाद बहुत कम समय में भ्रष्टचार और काले धन पर रोक लगाने के लिए कड़े कदम उठाए हैं. प्रधानमंत्री ने विज्ञान भवन में छठे ग्लोबल फोकल प्वाइंट कांफ्रेंस के उद्घाटन अवसर पर कहा, “सरकार ने सत्ता में आने के बाद बहुत कम समय में भ्रष्टाचार और काले धन पर रोक लगाने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं.” उन्होंने कहा, “हमारी सरकार नौकरशाही को अधिक दक्ष, कायरेन्मुख और जवाबदेह बनाने के लिए प्रतिबद्ध है.हमारा उद्देश्य एक समृद्ध भारत का निर्माण करना है.”
 
प्रधानमंत्री ने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ जंग जारी रखने की जरूरत है. उनकी सरकार भ्रष्टाचारियों को दंडित करने में किसी तरह की कोताही नहीं बरत रही है. आतंकवाद और अपराध से निपटने के लिए अंतरराष्ट्रीय सहयोग जरूरी है. उन्होंने कहा कि सरकार भ्रष्टाचार से कड़ाई से निपटने के लिए प्रतिबद्ध है.
 
पीएम ने कहा, ”सरकार की प्रतिबद्धताओं के कारण काला धन बाहर आ रहा है और इस संबंध में कई देशों के साथ समझौते किए गए हैं.” उन्होंने बताया कि अमरीका के साथ एक विशेष समझौता किया गया है जिसके जरिए आयकर अधिकारियों को एक-दूसरे के क्षेत्र में जमा सम्पत्ति का ब्यौरा मिलेगा. सरकार ने काले धन से संबंधित एक कानून बनाया है जिसके जरिए गरीबों के हित में पैसा खर्च होगा.