मेरठ. करीब डेढ़ साल पहले उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में अगवा कर जबरन रेप और इस्लाम कबूल करवाने का आरोप लगाने वाली हिंदू महिला टीचर ने अपने मुस्लिम प्रेमी के घर जाने का फैसला किया है. जिसके बाद बीजेपी सांसद योगी आदित्यनाथ के कई दावों की पोल खुल गई है.

क्या था मामला ?

करीब डेढ़ साल पहले उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में लव जिहाद का एक मामला सामने आया था. जहां मदरसे में 22 साल की एक हिन्दू टीचर ने कहा था कि उसे अगवा कर 10 लोगों ने गैंग रेप किया और बाद में जबरन इस्लाम कबूल करा दिया.

क्या कहा था योगी आदित्यनाथ ने ?

इस घटना के सामने आने के बाद बीजेपी सांसद योगी आदित्यनाथ समेत कई बीजेपी नेताओं ने कहा था कि हिंदू लड़कियों का अपहरण करके जबरन इस्लाम कबूल कराया जा रहा है.

योगी आदित्यनाथ ने ये भी आरोप लगाया था कि मुस्लिम युवक अपने प्यार के जाल में फंसाकर हिन्दू महिलाओं को जबरन इस्लाम कबूल करवाते हैं. बता दें कि इस मामले के तूल पकड़ते ही सहारनपुर में सांप्रदायिक दंगे भड़क उठे थे.

मुस्लिम प्रेमी के घर जाना चाहती है महिला

आरोप लगानी वाली महिला टीचर ने एक साल नारी निकेतन में रहने के बाद अपने मुस्लिम प्रेमी के घर जाने का फैसला किया है. इससे पहले घटना के दो महीनों बाद महिला ने कहा था कि बीजेपी नेता विनीत अग्रवाल ने उसके परिवार वालों को ‘रेपिस्ट’ के खिलाफ केस करने पर पैसे देने का प्रस्ताव रखा था.

महिला ने स्वीकार करते हुए पुलिस से कहा कि यह पूरी कहानी इसलिए बनाई क्योंकि वह अपनी जान को लेकर बुरी तरह से डरी हुई थी. पुलिस का कहना है कि 15 अक्टूबर को कथित रूप से गैंग रेप पीड़िता को इलाहाबाद हाई कोर्ट में पेश किया गया है. कोर्ट में महिला ने कहा है कि वो कलीम के साथ जाने के लिए तैयार है.

वहीं महिला के वकील का कहना है कि मामले में जिन 10 लोगों को अरेस्ट किया गया था वे बेल पर रिहा हो गए हैं. अब इन लोगों को क्लीन चिट मिल जाएगी क्योंकि मामला ही बंद हो जाएगा.

आदित्यनाथ ने साधी चुप्पी

इस मामले के सामने आने के बाद आदित्यनाथ ने चुप्पी साध ली है. उन्होंने कहा कि इस मामले में नया क्या है मुझे नहीं पता है. उन्होंने कहा कि जब तक पूरी जानकारी नहीं मिल जाती है तब तक वह कुछ नहीं बोलेंगे.