तिरुवनंतपुरम. बार घूसकांड में फंसे केरल के वित्तमंत्री के. एम. मणि ने मंगलवार को इस्तीफा दे दिया. अपने सरकारी आवास पर 82 वर्षीय मणि ने पत्रकारों से कहा कि राज्य का वित्तमंत्री होने के नाते “मुझे कानून का सम्मान करना होगा, इसलिए मैं अपने पद से इस्तीफा देता हूं.”
 
मणि ने ये भी कहा, ‘मैंने मुख्यमंत्री ओमन चांडी को अपने इस्तीफे के बारे में सूचित कर दिया है. एक विशेष संदेशवाहक के जरिए मैंने मुख्यमंत्री को अपना इस्तीफा भेज दिया है.’ उन्होंने कहा, ‘मैं इस अवसर पर मुख्यमंत्री और उन सभी मंत्रियों का जिन्होंने मेरा समर्थन दिया है, आभार व्यक्त करता हूं.’
 
बता दें कि मणि के खिलाफ यह मामला पिछले वर्ष अक्टूबर में तब दर्ज हुआ, जब बार मालिक बीजू रमेश ने खुलासा किया कि केरल के बार मालिकों ने बंद पड़े 418 मदिरालयों को फिर से शुरू करने के लिए मणि को एक करोड़ रुपये रिश्वत दी थी.
 
नेता प्रतिपक्ष वी. एस. अच्युतानंदन की सतर्कता आयोग के निदेशक को लिखी चिट्ठी के बाद केरल सरकार ने सतर्कता आयोग को मणि के खिलाफ जांच का आदेश दिया. सबूत मिल जाने के बाद उनके खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया था.