लखनऊ. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘विश्व के शीर्ष 10 अपराधियों’ में से एक बताने पर उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री मोहम्मद आजम खां के खिलाफ कानपुर अदालत में एक मुकदमा दर्ज किया गया है. जल निगम के एक सेवानिवृत्त कार्यकारी इंजीनियर व वादी राम सेवक शुक्ला ने शुक्रवार को सिटी मजिस्ट्रेट में अपना बयान दिया था.
 
शुक्ला ने कहा कि आजम ने अपनी बयानबाजी से संवैधानिक पदों पर कार्यरत लोगों का अपमान किया है और प्रधानमंत्री को अपराधी कहकर लाखों लोगों की भावनाओं को आहत किया है. उन्होंने अदालत के सामने समाचार पत्रों की कटिंग भी दिखाई, जिसमें आजम ने 22 जुलाई को फैजाबाद में प्रधानमंत्री मोदी को विश्वस्तरीय अपराधी कहा था.
 
शुक्ला ने अपने अधिवक्ता कृपा शंकर टंडन के जरिए अदालत को बताया कि उन्होंने आजम खां को अपने बयान पर माफी मांगने के लिए कानूनी नोटिस भी भेजा था, लेकिन उन्होंने नोटिस का कोई जवाब नहीं दिया.
 
इस मामले में अब अगली सुनवाई 17 नवंबर को होगी.