नई दिल्ली. दिल्ली-एनसीआर में ट्रकों का पहिया जल्दी ही थम सकता है. 10 साल पुरानी डीजल से चलने वाले वाहनों को प्रतिबंधित करने संबंधी राष्ट्रीय हरित ट्रिब्यूनल (एनजीटी) के आदेश के खिलाफ दिल्ली के ट्रांसपोर्टर सोमवार मध्यरात्रि से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे.
  
यदि हड़ताल हुई तो दिल्ली के जनजीवन पर व्यापक असर पड़ना तय है. वहीं इस मुद्दे पर ट्रांसपोर्टरों ने रविवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मुलाकात कर समस्या के समाधान की अपील की है. दिल्ली ट्रांसपोर्ट एसोशिएशन के लोग आज केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से मुलाकात करेंगे.
  
दिल्ली ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के लोगों ने रविवार को केजरीवाल से मुलाकात की. लेकिन मामला कोर्ट में होने की वजह से सीएम ने कोई संतोषजनक भरोसा नहीं दिया. पिछले हफ्ते ही नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने दिल्ली में दस साल पुरानी डीजल और पंद्रह साल पुरानी पेट्रोल की गाड़ियां दौड़ाने पर रोकने का आदेश दिया था.
 
दिल्ली ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष रवींद्र सिंह खुराना ने कहा, ‘‘ हमने मुख्यमंत्री केजरीवाल के समक्ष यह मुद्दा उठाया और उनसे हमारी आजीविका बचाने में हस्तक्षेप करने की मांग की. केजरीवाल ने हमारी मांग पर विचार करने का हमें आश्वासन दिया है.’’ खुराना ने कहा कि सोमवार की रात से ट्रकमालिक अधिकरण के आदेश से ‘‘असहमति’’ जताते हुए ट्रकों का परिचालन रोक देंगे. उन्होंने कहा कि सोमवार की रात से दिल्ली में कोई ट्रक नहीं चलेगा. रोक उठने तक हड़ताल जांच रहेगी.

IANS