भोपाल. मध्यप्रदेश में बिजली की दरें बढ़ाने के प्रस्ताव के खिलाफ रविवार को देश की राजधानी में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) ने प्रदेश की राजधानी भोपाल में रैली निकाली, जिसमें समूचे प्रदेश से आए कार्यकर्ता शामिल हुए. प्रदेश की बिजली कंपनियों ने विद्युत नियामक आयोग को बिजली दरों में 25 फीसदी बढ़ोतरी का प्रस्ताव दिया है. कंपनियों का कहना है कि उन्हें बीते वर्ष लगभग पांच हजार करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है, लिहाजा बिजली दरों में इजाफा किया जाए, ताकि इसकी भरपाई हो सके. 

बिजली कंपनियों के इस प्रस्ताव के खिलाफ आप प्रदेशव्यापी जनजागरण अभियान चलाए हुई है. इसी क्रम में भोपाल के शाहजहानी पार्क से इकबाल मैदान तक पार्टी ने रैली निकाली. भाजपा सरकार की नीतियों की आलोचना थी. आप के वरिष्ठ कार्यकर्ता और पूर्व विधायक पारस सखलेचा ने संवाददाताओं से कहा कि बिजली कंपनियों में लापरवाही हो रही है और वे खुद में सुधार लाने के बजाय जनता पर बोझ डालना चाहती हैं. सीएजी की रिपोर्ट में साफ कहा गया है कि कंपनी के अधिकारियों की लापरवाही से नुकसान हो रहा है और घपला छुपाने के लिए बिजली कंपनियों का ऑडिट नहीं होने दिया जा रहा है. प्रदेश सरकार को इन कंपनियों का ऑडिट कराना चाहिए, ताकि गड़बड़ियों का पता चल सके और सुधार लाया जा सके, मगर सत्ता में बैठे लोग भी कंपनियों पर ऑडिट के लिए दबाव बनाने के बजाय जनता पर बोझ डालना सबसे आसान समझ रहे हैं. 

IANS