चेन्नई. मदुरई जिले के उथापुरम गांव में मुथलम्मान मंदिर में दलितों द्वारा पीपल पेड़ की पूजा करने पर तनाव की स्थिति बनी हुई है. मुथलम्मान त्योहार में सवर्ण जातियों ने दलितों को पूजा करने से मना कर दिया था. हालांकि पुलिस के दबाव के कारण मंगलवार रात को सवर्ण जातियों ने दलितों को पूजा करने के लिए सहमति जता दी थी.  
 
उथापुरम गांव में मुथलम्मान मंदिर के पास भारी पुलिस बल की तैनाती की गई है. द हिन्दू में छपी खबर के मुताबिक़, पुलिस का कहना है कि दलितों को मंदिर में पूजा करने का अधिकार है और उनके अधिकारों की रक्षा की जाएगी.
 
क्या है मामला? 
करीब 40 दलित मंदिर में पूजा करने के लिए आए थे. दीपारथना और पूजा पुरोहित द्वारा सही तरीके से संपन्न कराई गई. इसके बाद भक्तों को प्रसाद और कुमकुम दिया गया. जैसे ही वे पीपल पेड़ की पूजा करने के बाद बाहर निकले अचानक  दर्जनों भर सवर्ण जाति के लोगों ने दलितों को पीपल पेड़ की पूजा करने पर आपत्ति जताई. इसके बाद दोनों पक्षों में बहस शुरू हो गई. मामला तब और बढ़ गया जब सवर्ण लोगों ने दलितों द्वारा चढ़ाई  गई मालाओं को जमीन पर फेंक दिया. इसके बाद भारी मात्रा में पुलिस बल की तैनाती कर दी गई है.