नई दिल्ली. मशहूर शायर मुनव्वर राना के साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटाने के बाद जाने माने कवि गोपाल दास नीरज ने पीएम मोदी की तारीफ की है और कहा कि मोदी को बदनाम करने की कोशिश हो रही है. नीरज ने कहा कि मोदी तो विकास की बात करते हैं लेकिन कुछ लोग उनके खिलाफ राजनीतिक अभियान चला रहे हैं.
 
गोपाल दास नीरज को पद्म श्री व पद्म भूषण सम्मान से नवाजा जा चुका है. वे कवि होने के साथ-साथ अच्छे गीतकार भी है. उन्हें सर्वश्रेष्ठ गीत लेखन  के लिए फिल्म फेयर अवार्ड से भी सम्मानित किया जा चुका है. उन्होंने कई हिंदी फिल्मों के लिए गाने लिखे हैं. किशोर कुमार, पंचम दा आदि के लिए उन्होंने गाने लिखे हैं.
 
40 से ऊपर साहित्यकार लौटा चुके हैं पुरस्कार 
देश में बनी अशांति और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुप्पी की वजह से अबतक 40 से ऊपर साहित्य-कला से जुड़े लोग अपना पुरस्कार लौटा चुके हैं. 
 
उदय प्रकाश ने की थी पुरस्कार लौटाने की शुरुआत
दादरी में मोहम्मद अखलाक की हत्या और लेखक कलबुर्गी की हत्या के विरोध में सबसे पहले साहित्यकार उदय प्रकाश ने साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटाया था. नयनतारा सहगल देश के पहले पीएम जवाहरलाल नेहरू की भंगिनी हैं.
 
उनके बाद नयनतारा सहगल, अशोक वाजपेयी, के. सच्चिदानंद, मंगलेश डबराल, राजेश जोशी, सारा जोसेफ समेत अब तक 40 साहित्यकारों ने साहित्य अकादमी को पुरस्कार लौटा दिया है. सांप्रदायिक माहौल की वजह से साहित्य अकादमी पुरस्कारों की वापसी के सिलसिले के बीच दिलीप कौर तिवाना पहली साहित्यकार हैं जिन्होंने अब पद्मश्री अवार्ड लौटा दिया है.