किशनगंज. AIMIM प्रमुख और हैदाराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के मुखपत्र ‘पांचजन्य’ को प्रतिबंधित करने की मांग की है. बता दें कि इस अखबार में दादरी में अफवाह के बाद पीट-पीट कर मरे गए अखलाक की हत्या को जायज़ ठहराने की कोशिश की गयी थी. 
 
बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर किशनगंज पहुंचे ओवैसी ने रविवार को पत्रकारों से बातचीत के दौरान उक्त मांग करते हुए कहा कि देश का संविधान धर्म पर आधारित नहीं है और संविधान को धर्म के अनुकूल नहीं चलाया जा सकता. इस प्रकार की साजिश देश के लिए सबसे बडा खतरा साबित हो सकती है. उन्होंने आरएसएस पर देश को हिंदू राष्ट्र बनाने की साजिश में लगे होने का आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा का रिमोट आरएसएस के हाथ में है. यदि केंद्र की नरेंद मोदी सरकार आरएसएस के इशारे पर चलेगी तो बडे ही अफसोस की बात होगी.
 
पूर्व में कांग्रेस के साथ रह चुके ओवैसी ने पार्टी द्वारा उनकी धर्मनिरपेक्षता पर सवाल खडे किए जाने को गलत ठहराते हुए कहा, ‘‘कांग्रेस दोहरी नीति अपना रही है. वह सत्ता में बने रहने के लिए हमेशा मुसलमानों को भाजपा का डर दिखाती रही है तथा उसकी इसी दोहरी नीति का फायदा उठाकर जदयू, राजद और समाजवादी पार्टी मुसलमानों को अबतक ठगते रहे हैं.’