तिरुवनंतपुरम. यमन से शुक्रवार को कोच्चि पहुंचे 382 केरलवासियों के साथ ही अब तक देश लौट चुके लोगों की संख्या 2,300 से अधिक हो गई है. हालांकि संकटग्रस्त यमन में केरल के कई लोग अब भी फंसे हुए हैं. केरल के प्रवासी मामलों के मंत्री केसी जोसेफ ने संवाददाताओं को बताया कि उनकी गुरुवार को यमन के अस्पताल में सेवारत केरल की एक नर्स से बात हुई. नर्सो का कहना है कि वह भारत लौटना नहीं चाहतीं.

जोसेफ के मुताबिक, “नर्स ने मुझे बताया कि उनके अस्पताल में केरल की 64 नर्से काम करती हैं. काफी अनुनय के बावजूद उसने मुझसे कहा कि मुझे नर्सो पर वापस वतन लौटने के लिए दबाव नहीं डालना चाहिए.”  उनके मुताबिक, “हम नियमित रूप से विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह के साथ संपर्क में हैं। वी.के.सिंह जिबूती में बचाव अभियान की निगरानी कर रहे थे. उन्होंने हमें बताया कि जनवरी से ही यमन में मौजूद भारतीयों को वापस देश लौटने को कहा जा रहा है.” उन्होंने बताया, “मैंने ये सभी बातें यमन में रह रही नर्सो से कही। वीके सिंह वापस आ चुके हैं और यमन में भारतीय दूतावास को बंद कर दिया गया है.”