जयपुर. राजस्थान के भीलवाड़ा जिले के बिहाड़ा गांव में एक अमानवीय घटना घटित हुई है. गांव में 85 साल की महिला ने आरोप लगाया है कि कुछ लोगों ने उसे डायन बताकर जलती सलाखों से दागा, लोहे की जंजीर से भी पीटा और नग्न कर दिया. 
 
दो लड़कियों की मां ने अपनी शिकायत में कहा है कि रविवार रात उसके गांव के 14-16 लोगों ने उसे डायन बताकर गर्म सलाखों से दागा और लोहे की जंजीर से भी पीटा गया. 
 
महिला ने बताया कि रविवार को कुछ गांव वाले ओझा के साथ आए. उन्होंने मेरा बाल पकड़े और मुझे घसीट कर बरामदे में ले आए. ओझा ने शराब जैसी कोई चीज मेरे बदन पर डाली. इसके बाद मुझे पीटा गया और निर्वस्त्र कर दिया गया. फिर मुझे एक नाली में डाल दिया गया.
 
पुलिस के एक अधिकारी के मुताबिक, चाऊ बाई नामक महिला ने सोमवार को इलाके के अतिरिक्ति पुलिस अधीक्षक से मुलाकात कर उन्हें घटना की जानकारी दी. पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है. ताज्जुब की बात है कि भीलवाड़ा में ही बीते तीन दिन में ऐसे तीन मामले सामने आ चुके हैं. 
 
बाई को भीलवाड़ा के महात्मा गांधी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. उनका कहना है कि गांव वाले उसकी संपत्ति पर कब्जा करना चाहते हैं. वे चाहते हैं कि वह गांव छोड़कर चली जाए. 
 
राजस्थान के प्रिवेंशन ऑफ विच हंटिंग एक्ट 2015 के अनुसार किसी महिला को डायन बताकर उस पर जुल्म करने वाले को कम से कम तीन साल कैद की सजा होगी. इसे बढ़ाकर सात साल किया जा सकता है. साथ में कम से कम 50,000 जुर्माना भी लगाया जा सकता है.
 
इस कानून के बावजूद राजस्थान में महिलाओं को डायन बताकर प्रताड़ित करने के मामले सामने आ रहे हैं. भीलवाड़ा में ही बीते तीन दिन में ऐसे तीन मामले सामने आ चुके हैं. 
 
IANS