नई दिल्ली. भारतीय वायुसेना की 83वीं वर्षगांठ के अवसर पर एयर चीफ मार्शल अरूप राहा ने महिला पायलटों को लेकर बड़ा ऐलान दिया है.
 
एयर चीफ मार्शल राहा ने कहा, ‘हमारे यहां महिलाएं परिवहन विमान और हेलीकॉप्टरों को पहले से ही उड़ा रही हैं. अब भारत की युवा महिलाओं की महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने के लिए हम उन्हें लड़ाकू विमान ईकाई में भी नियुक्त करने की योजना बना रहे हैं.’
 
देश की तीनों सेवाओं में से भारतीय वायुसेना पहली सेवा है, जिसमें महिलाओं को लड़ाकू शाखा में शामिल करने की योजना बनाई जा रही है. इससे पहले ये सेवाएं महिलाओं को लड़ाकू भूमिका में लेने के विचार से सहमत नहीं थी.
 
इससे पहले ये सेवाएं महिलाओं को लड़ाकू भूमिका में लेने के विचार से सहमत नहीं थी. फिलहाल भारतीय वायुसेना सात क्षेत्रों में महिलाओं को तैनात करती है. ये क्षेत्र हैं- प्रशासन, साजोसामान, मौसम विभाग, नेविगेशन, शिक्षा, एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग-मैकेनिकल और इलेक्ट्रिकल और अकाउंट्स. एयरफोर्स में इस समय लगभग 1500 महिलाएं तैनात हैं. इनमें से 94 पायलट हैं और 14 नेविगेटर हैं.