नई दिल्ली. केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) अब नकली प्रमाण पत्रों की समस्या से निपटने के लिए अपने द्वारा जारी किए गए प्रमाण पत्रों पर बार कोड की व्यवस्था शुरू करने जा रही है. इस बार शिक्षक पात्रता परीक्षा (सीसैट) में जो प्रमाण पत्र जारी होंगे उसमें बार कोड लगाया जायेगा. इसकी शुरुआत सीसैट के प्रमाण पत्रों से हो रही है जिसके बाद अन्य प्रमाण पत्रों में भी बार कोड लगाए जाऐंगे.
 
सूत्रों के अनुसार सीबीएसई बोर्ड अब अपने प्रमाण पत्रों की पहचान और नकली प्रमाण पत्रों पर नकेल कसने के लिए ग्लोबल डॉक्यूमेंट टाइप आइडेन्टिफिकेशन (जीडीटीआई) तकनीक का उपयोग करने जा रही है. भारत में नकली प्रमाण पत्रों की समस्या बहुत ही गंभीर
है. इस तकनीक से नकलचियों की पहचान की जा सकेगी.