चंडीगढ़. राष्ट्रीय स्तर के निशानेबाज सिप्पी सिद्धू की हत्या कर दी गई और गोलियों से छलनी उनका शरीर एक पार्क में मिला, जिससे निशानेबाजी जगत सकते में है। इस 34 वर्षीय निशानेबाज का शव रात को सेक्टर 27 स्थिति पार्क में मिला. पुलिस सूत्रों ने कहा कि उन्हें एक स्थानीय निवासी ने सूचित किया कि पार्क में शव पड़ा हुआ है, जिसके बाद पुलिस टीम वहां पहुंची. पहचान के बाद पता चला कि शव सिद्धू का है. हत्या के पीछे के कारणों का पता नहीं चला है. 
 
हत्या का मामला
सिद्धू वकील और खेल प्रमोटर थे, जो एक प्रभावशाली परिवार से संबंध रखते थे. वह शहर स्थित ‘सिप्पी सिद्धू लॉ फर्म’ के मालिक थे. घटना की पुष्टि करते हुए चंडीगढ़ के एसएसपी सुखचैन सिंह गिल ने कहा कि यह हत्या का मामला है और पुलिस जांच कर रही है. उन्होंने कहा, उनका शव रविवार की रात 11 बजे के आसपास सेक्टर 27 पार्क से मिला। लगभग दस बजकर 15 मिनट के आसपास उनकी हत्या की गई. उनके शरीर पर गोलियों के दो या तीन निशान हैं.
 
राष्ट्रीय खेलों में अभिनव बिंद्रा के साथ जीता पदक
सिप्पी राइफल निशानेबाज थे और उन्होंने 2001 राष्ट्रीय खेलों में अभिनव बिंद्रा के साथ मिलकर टीम स्पर्धा का स्वर्ण पदक जीता था. वह 15 वर्षों तक निशानेबाजी से जुड़े रहे और विभिन्न प्रतियोगिताओं में नियमित रूप से पदक जीतते रहे. वह भारतीय परालंपिक समिति के संयुक्त सचिव भी थे. सिप्पी की हत्या से भारतीय निशानेबाजी समुदाय सकते में पड़ गया.