जालौन.  उत्तर प्रदेश के हिस्से वाले बुंदेलखंड में बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से फसल की बर्बादी से परेशान किसानों की आत्महत्या का सिलसिला थम नहीं रहा है. रविवार को जालौन जिले में दो किसानों ने खुद को खत्म कर लिया. मरगयां गांव किसान सियाराम भुर्जी (55) शनिवार की रात जोल्हूपुर मोड़ के निकट रेलवे लाइन में ट्रेन के आगे कूदकर आत्महत्या कर ली. 

मृत किसान की जेब से सोसाइड नोट मिला है, जिसमें आत्महत्या की वजह का उल्लेख ‘फसल बर्बादी’ है.  दूसरी घटना दमा गांव की है, जहां युवा किसान जितेंद्र (30) ने रविवार की तड़के बंद कमरे में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है.