जयपुर. राजस्थान सरकार के एक सर्कुलर पर विवाद हो गया है. दरअसल राज्य सरकार ने सर्कुलर जारी कर 25 सितंबर को जनसंघ विचारक पंडित दीन दयाल उपाध्यय की जयंती मनाने का आदेश दिया है. जबकि इसी दिन ही मु्स्लिमों का प्रमुख त्यौहार बकरीद भी है. इस फरमान को लेकर बीजेपी की वसुंधरा सरकार की आलोचना की जा रही है.
 
 
वसुंधरा राजे की सरकार ने साफ किया है कि इस दिन किसी भी राज्य कर्मचारी को छुट्टी ना दी जाए. सरकार ने इस दिन  राज्य के सभी विद्यालयों में रक्तदान शिविर लगाने के आदेश दिया है. 
 
बकरीद की छुट्टी रद्द करने पर विपक्ष का हमला ?
विपक्ष ने वसुंधरा सरकार पर हमला साधते हुए कहा की बीजेपी  जानबूझकर साम्प्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने के लिए ऐसे आदेशों को थोप रही है.  वहीँ जमात-ए-इस्लामी हिन्द के राष्ट्रीय सेक्रेटरी ने कहा है की हम इस मामले को लेकर हाई कोर्ट जायेंगें.
 
 
उन्होंने कहा की यह मुस्लिम कर्मचारियों के मानवाधिकार का उलंघन है. हालांकि बकरीद चांद के दिखने पर मनती है. 24 और 25 सितंबर को किसी भी एक दिन बकरीद हो सकती है.