नई दिल्ली. रैमन मैग्सैसे अवार्ड विजेता और गूंज के संस्थापक अंशु गुप्ता का आईआईएमसी में सम्मान किया गया. श्री गुप्ता आईआईएमसी के एलुम्नाई हैं और समारोह का आयोजन आईआईएमसी एलुम्नाई एसोसिएशन ने किया था.
 
सम्मान समारोह में आईआईएमसी की सहपाठी और पत्नी मीनाक्षी गुप्ता के साथ पहुंचे श्री गुप्ता को आईआईएमसी के महानिदेशक सुनीत टंडन, एलुम्नाई एसोसिएशन की अध्यक्ष सुनीला धर और संस्थान की शिक्षिका प्रो. जयश्री जेठवानी ने सम्मानित किया. 
 
 
इस मौके पर श्री गुप्ता ने कहा कि हमें समाज के लिए कुछ करना चाहिए और समाज को बेहतर बनाने के रास्ते तलाशने चाहिए. उन्होंने कहा कि स्कूल सरकारी हो या प्राइवेट, हर आदमी सरकारी पैसे से पढ़ा है इसलिए उसे समाज को लौटाना चाहिए.
 
हम कर्जदार हैं आम लोगों के जिनके पैसे की सब्सिडी पर पढ़े हैं
 
 
श्री गुप्ता ने कहा कि जब भी वो रात में सोते हैं तो इस कर्ज के साथ सोते हैं कि उनकी पढ़ाई पर आम लोगों का पैसा सब्सिडी के रूप में खर्च हुआ है जिसे समाज के लिए कुछ करके उन्हें चुकाना है.
 
 
आईआईएमसी के महानिदेशक सुनीत टंडन ने कहा कि हमें गर्व है कि हमारे यहां से ऐसे एलुम्नाई निकले हैं जो सिर्फ पैसे या पद के पीछे नहीं भाग रहे हैं. उन्होंने अंशु गुप्ता और गूंज को बधाई दी. एसोसिएशन की अध्यक्ष सुनीला धर ने कहा कि अंशु जैसे लोग किसी संस्थान या देश के नहीं होते बल्कि ऐसे लोग दरअसल पूरी मानव जाति के होते हैं.  
 
इस मौके पर श्री गुप्ता के आईआईएमसी के सहपाठी रहे इंडियन एक्सप्रेस के संपादक उन्नी राजन शंकर, बीबीसी हिन्दी के संपादक निधिश त्यागी, हिन्दुस्तान कोका कोला के एवीपी कल्याण रंजन ने श्री गुप्ता के साथ के अनुभव सुनाए और भरोसा जताया कि अंशु आगे और बेहतर काम करेंगे.