नई दिल्ली. शहरी विकास मंत्रालय की तरफ से 98 शहरों को ‘स्मार्ट सिटी’ बनाने की सूची जारी हो चुकी है. इनमें सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश के 13 शहर और विभिन्न राज्यों की 24 राजधानियां शामिल है लेकिन इनमें भी कई ऐसे शहर पीछे छूट गए है जिनको सूची में शामिल नहीं किया गया है.
 
 
इस सूची में पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता पहले नंबर पर जिसे ‘स्मार्ट सिटी’ बनाने की योजना में जगह नहीं मिली है जबकि राज्य के चार शहरों को स्मार्ट बनाया जाएगा. आईटी शहर कहलाने वाली बेंगलुरु को भी स्मार्ट सिटी में शामिल नहीं किया गया है. बिहार की राजधानी पटना भी स्मार्ट नहीं बनेगी लेकि मुजफ्फरपुर, भागलपुर और बिहारशरीफ को स्मार्ट बनाया जाएगा.
 
सरकार ने स्मार्ट सिटी योजना के तहत इन शहरों में विश्वस्तर की आधारभूत संरचना, अच्छे वातावरण के लिए अगले पांच साल में हर शहर को 100 करोड़ रुपए हर साल देने का प्रावधान किया है. पहले साल हर शहर को 200 करोड़ रुपए मिलेंगे.