बनारसः काशी हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) में छात्रा से छेड़छाड़ का मामला अभी थमा भी नहीं था कि गुरुवार को एक बार फिर बीएचयू के समाजशास्त्र विभाग में कथित तौर पर एक छात्रा से छेड़खानी और मारपीट की घटना सामने आई है. पीड़ित छात्रा ने इस मामले में प्रॉक्टर से शिकायत की है. मिली जानकारी के अनुसार, आरोपी ने छात्रा से बीएचयू कैंपस के अंदर ही उससे छेड़छाड़ और मारपीट की. इतना ही नहीं, मारपीट के बाद आरोपी ने उसका मोबाइल भी छीन लिया.
 
इससे पहले कि मामला तूल पकड़ता पुलिस ने छात्रा की शिकायत के बाद आरोपी के खिलाफ लंका थाने में एफआईआर दर्ज की और उसे गिरफ्तार कर लिया. आरोपी का नाम शीतला शरण गौड़ है और वह भी बीएचयू का छात्र है. पुलिस आरोपी से पूछताछ कर रही है. बता दें कि इससे पहले 21 सितंबर को यूनिवर्सिटी की एक छात्रा ने कैंपस के भीतर कुछ लड़कों पर छेड़छाड़ का आरोप लगाया था, जिसके बाद प्रशासन और छात्र आमने-सामने आ गए थे.
 
 
बीएचयू कैंपस में छेड़छाड़ की घटना के खिलाफ छात्राओं ने विरोध प्रदर्शन किया. पुलिस ने प्रदर्शन कर रही छात्राओं पर लाठीचार्ज किया था. क्राइम ब्रांच मामले की तफ्तीश कर रही है. इस घटना के बाद कुलपति जीसी त्रिपाठी को छात्रों के विरोध का काफी सामना करना पड़ा था. सोमवार से कुलपति जीसी त्रिपाठी छुट्टी पर चले गए हैं. उन्होंने इसके लिए निजी कारणों का हवाला दिया है. माना जा रहा है कि जल्द ही बीएचयू को नया कुलपति मिल जाएगा.
 
बता दें कि इस पूरे विवाद के बाद मंगलवार को यूनिवर्सिटी एक बार फिर खुल गई है. निर्भया फंड से धनराशि लेकर यूनिवर्सिटी कैंपस में सीसीटीवी कैमरे लगवाए गए हैं. गौरतलब है, बीएचयू में सुरक्षा पर सालाना करीब 14 करोड़ रुपये खर्च होते हैं. अभी तक तैनात 700 से ज्यादा सुरक्षाकर्मियों में एक भी महिला सुरक्षाकर्मी शामिल नहीं थी. छात्रा से छेड़छाड़ मामले के बाद बीएचयू प्रशासन ने महिला सुरक्षाकर्मी तैनात किए जाने को अब मंजूरी दी है.