Hindi state Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath, Union Water Resources Minister Nitin Gadkari, Ken-Betwa river interlinking project http://www.inkhabar.com/sites/inkhabar.com/files/field/image/ken-betwa-river.jpg

केन-बेतवा नदी को जोड़ने की औपचारिक मंजूरी, गडकरी से मिले MP और UP के सीएम

केन-बेतवा नदी को जोड़ने की औपचारिक मंजूरी, गडकरी से मिले MP और UP के सीएम

    |
  • Updated
  • :
  • Tuesday, September 26, 2017 - 09:44

Formal approval has been given to link Ken-Betwa river

केन-बेतवा नदी को जोड़ने की औपचारिक मंजूरी, गडकरी से मिले MP और UP के सीएमFormal approval has been given to link Ken-Betwa riverTuesday, September 26, 2017 - 09:44+05:30
भोपाल. राज्य सरकार ने केन-बेतवा नदी को जोड़ने की औपचारिक मंजूरी दे दी गई है. इस परियोजना के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ और शिवराज सिंह चौहान ने अपने अफसरों को इस परियोजना के लिए रोड मेप तैयार करने के निर्देश दे दिए हैं.
 
सोमवार को जल संसाधन नितिन गडकरी ने उत्तर प्रदेश योगी आदित्यनाथ और सीएम शिवराज राज सिंह चौहान के साथ बैठक की. मीटिंग के बाद दोनों नदी को जोड़ने की मंजूरी दी गई है. इसी के साथ दोनों मुख्यमंत्रियों ने रोडमेप तैयार करने के निर्देश भी दे दिए हैं.
 
बता दें केन बेतवा लिंक परियोजना 9 सालों में पूरी होगी. इस परियोजना में 9393 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे. देश को सूखा एवं बाढ़ से बचाने के लिए महत्वाकांक्षी नदी जोड़ो कार्यक्रम के तहत इस परियोजना का काम पूरा किया जाएगा.
 
 
इस परियोजना के तहत केन नदी पर एक बांध का निर्माण होगा साथ ही यह 22 किलोमीटर नहर को बेतवा से जोड़ेगा. साथ ही ये प्रोजेक्ट मोदी सरकार की इंटरलिंकिग योजना सरकार की प्राथमिक सूची में सबसे ऊपर है.
 
गौरतलब है कि साल 2004 अटल बिहारी वाजपेयी सरकार के कार्यकाल में बने नदी जोड़ो कार्यक्रम की इस पहली परियोजना को लेकर 2005 में केन्द्र सरकार तथा MP एवं UP सरकार के बीच त्रिपक्षीय समझौते पर हस्ताक्षर किये थे.
 
First Published | Tuesday, September 26, 2017 - 08:51
For Hindi News Stay Connected with InKhabar | Hindi News Android App | Facebook | Twitter
(Latest News in Hindi from inKhabar)
Disclaimer: India News Channel Ka India Tv Se Koi Sambandh Nahi Hai

Add new comment

CAPTCHA
This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.