नई दिल्ली. इंजीनियरिंग परीक्षा की तैयारी करने वाले छात्र-छात्राओं के लिए अच्छी खबर है. अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ  इंडिया में छपी खबर के मुताबिक अगले साल यानी 2016 से उन्हें आईआईटी के अलावा किसी दूसरे इंस्टीट्यूट में एडमिशन के लिए 12वीं परीक्षा के मार्क्स की जरूरत नहीं पड़ सकती है.

मानव संसाधन विकास मंत्रालय अगर सेंट्रल सीट एलोकेशन बोर्ड (CSAB) के प्रस्ताव को मंजूरी दे देती है तो ऐसा मुमकिन हो सकता है. दूसरी तरफ अगले साल से इंजीनियरिंग परीक्षा थोड़े समय से पहले आयोजित कराए जा सकते हैं.दरअसल इस बार इंजीनियरिंग कॉलेजों में एडमिशन के लिए कई बोर्ड्स के छात्रों ने स्कोर्स जमा करने में देरी की थी.

रिपोर्ट के मुताबिक इस प्रस्ताव को मंजूरी मिल जाती है तो NIT जैसे संस्थान में 12वीं के मार्क्स मान्य नहीं रह जाएंगे. 12वीं के स्कोर्स से उन छात्रों को सीट का नुकसान भी झेलना पड़ता है जिनकी बोर्ड परीक्षाओं के नतीजे देर से आते हैं. ऐसे छात्र-छात्राओं के हितों का ध्यान रखते हुए यह प्रस्ताव पारित हो सकता है.