पिथौरागढ़ : उत्तराखंड के पिथौरागढ़ की धारचूला तहसील के मालपा में कैलास मानसरोवर यात्रा मार्ग पर बादल फटने से चार लोगों की मौत हो गई, जबकि सेना के आठ जवान लापता हैं. बादल फटने के बाद मंगती में दो और सिमखोला में एक पुल पूरी तरह से ध्वस्त हो गया है. वहीं आईलागढ की काली नदी खतरे के निशान से उपर बह रही है. 
 
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार दो जवान और एक जेसीओ को मलबे से सकुशल निकाल लिया गया है. इस घटना में दर्जनों लोग घायल हैं. घायलों में दो पुलिस के जवान भी शामिल हैं. इस हादसे के चलते कैलाश मानसरोवर यात्रा को रोक दिया गया है. मालपा में शिव मंदिर के पास यह घटना घटी. एसएसबी के बचाव दल ने अब तक चार शव बरामद किए हैं.
 
 
माना जा रहा है कि बादल फटने से अभी और नुकसान हो सकता है. खतरे के निशान से ऊपर बह रही काली नदी से आस-पास के इलाके प्रभावित हुए हैं.
 
इससे पहले हिमाचल प्रदेश के मंडी के चंबा में भूस्खलन की चपेट में आने से अब तक 45 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है. ये हादसा इतना भयानक है कि अभी और लोगों के दबे होने की आशंका जताई जा रही है. रविवार देर शाम तक रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद राहत बचाव का काम रोक दिया गया है.