पटना. बिहार के कई जिलों में बाढ़ का कहर जारी है. बिहार के अररिया, पूर्णिया और किशनगंज और कटिहार के कई इलाकों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर चुका है. बाढ़ की गंभीर स्थिति को देखते हुए नीतीश सरकार ने केंद्र सरकार से मदद की गुहार लगाई है. उत्तरी बिहार और नेपाल के कई इलाकों में पिछले तीन दिनों से लगातार बारिश हो रही है, जिससे बाढ़ की स्थिति पैदा हो गई है. भारी बारिश और बाढ़ के कारण राज्य में जीवन पूरी तरह अस्त-व्यस्त हो गया है. बाढ़ प्रभावित इलाकों में एनडीआरएफ की 10 टुकड़ियां राहत और बचाव कार्य में लगी है. पूर्णिया के बायसी क्षेत्र में फंसे 200 लोगों को हेलीकॉप्टर से बाहर निकाला जा रहा है. राज्य के किशनगंज, फोरबिसगंज, जोगबनी, अररिया और पश्चिम चम्पारण बाढ़ से ज्यादा प्रभावित हैं. इन क्षेत्रों में सेना रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटी हैं.
 
 
बता दें कि बाढ़ की स्थिति को देखते हुए बिहार के मुख्यमंत्री ने रविवार की सुबह प्रधानमंत्री, गृहमंत्री राजनाथ सिंह से फोन पर की. नीतीश कुमार ने बाढ़ की स्थिति से पीएम मोदी को अवगत कराते हुए मदद की गुहार लगाई है. वहीं आज सोमवार को सीएम नीतीश कुमार बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा करेंगे. गौरतलब है कि बिहार, असम, और पश्चिम बंगाल के कई इलाकों में लगातार हो रही है. बिहार के कई जिलों में बाढ़ के कारण अब ट्रेनों के आवागमन पर भी असर दिखने लगा है. स्टेशनों की हालत ऐसी है कि रेलवे स्टेशन और पटरियों पर पानी भर गया है. यही वजह है कि इन रूट से चलने वाली ट्रेनों को कैंसिल किया जा रहा है.