गोरखपुर: सीएम योगी के गृह नगर गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में 60 से अधिक बच्चों की मौत के बाद अस्पताल प्रशासन के खिलाफ डंडा चलना शुरू हो गया है. हादस में कथित तौर पर मददगार की भूमिका निभाने वाले डॉ कफील अहमद पर भी सरकार के एक्शन की गाज गिरी है. रविवार को सीएम योगी के दौरे के बाद डॉ कफील को अस्पताल की सभी ड्यूटी से हटा दिया गया है.
 
बता दें कि डॉक्टर कफील खान बीआरडी अस्पताल में इंसेफेलाइटिस विभाग और बाल रोग विभाग के इंचार्ज थे. साथ ही उनके पास कॉलेज के वाइस प्रिंसिपल और अस्पताल अधीक्षक भी जिम्मेदारी थी. मगर अब उन्हें सभी पदों से हटा दिया गया है. 
 
डॉ काफील की जगह डॉ भूपेंद्र शर्मा को बीआरडी अस्पताल के बाल रोग विभाग का नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है. हालांकि, अभी तक डॉ काफील को हटाए जाने का कारण स्पष्ट नहीं हो पाया है. 
 
 
बता दें कि डॉ काफील वही डॉक्टर हैं, जिन्होंने इस हादस में मददगार के रूप में खूब सुर्खियां बटोरी थीं. मीडिया में आई खबर के मुताबिक, डॉ काफील की वजह से कई बच्चों की जान बच पाई थी. बीआरडी अस्पताल में ऑक्सीजन ना मिलने से लगातार मरते बच्चों को देखकर डॉ कफील अपनी कार लेकर तुरंत अपने दोस्त के अस्पताल से ऑक्सीजन के तीन जंबो सिलेंडर लेकर आए थे और इन सिलेंडर की मदद से अस्पताल के बाल रोग विभाग के बच्चों को करीब 15 मिनट तक ऑक्सीजन की सप्लाई हो सकी थी. 
 
बता दें कि पिछले कुछ दिनों में ऑक्सीजन के सेवा बाधित करने के कारण गोरखपुर में 63 से ज्यादा बच्चों की मौत हो चुकी है. बताया ये भी जा रहा है कि आंकड़ें अभी बढ़ ही रहे हैं. इससे पहले सीएम योगी और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने रविवार को ही अस्पताल का दौरा किया और चीफ सेक्रेटरी की अध्यक्षता में इस मामले की जांच सौंप दी है. 
 
 
उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा था कि इस मामले में सभी जिम्मेवार अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. इसी के बाद डॉ काफील को हटाए जाने की बात सामने आई है.