देहरादून: किसानों के आत्महत्या करने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है. उत्तराखंड के टिहरी में कर्ज के बोझ तले दबे किसान ने अपने खेत में जाकर खुदकुशी कर ली. जानकारी के मुताबिक टिहरी जिले के चंबा ब्लॉक के रूवाड़ी गांव में एक किसान ने उत्तरांचल ग्रामीण बैंक से 65 हजार रुपये का कृषि लोन लिया था.
 
लोन समय पर ना चुका पाने पर किसान को बैंक से बार-बार नोटिस आ रहा था, जिसे तंग आकर किसान ने जहर खाकर खुदकुशी कर ली है. जिस खेत को सिंच कर किसान अपने परिवार का पेट भर रहा था, उसी खेत में किसान ने जहर खाकर अपनी जीवन लीला ही समाप्त कर दी. किसान आत्महत्या करने का ये कोई पहला मामला सामने नहीं आया है.
 
ये भी पढ़े-
 
इससे पहले भी देशभर के अलग-अलग राज्यों में सैकड़ों किसान कर्ज के बोझ तले दब कर आत्महत्या कर ली है. हालांकि कई राज्यों के सरकार ने किसानों के कर्ज माफ कर राहत देने की कोशिश भी की है. इस घटना से पहले हल्दवानी में किसान आत्महत्या के विरोध में क्षेत्र के नाराज किसान धरने पर बैठ गए थे. किसानों का आरोप था कि उत्तराखंड सरकार किसान आत्महत्या के मुद्दे को गंभीरता से नहीं ले रही है.