जयपुर : नागौर जिले में भारी तादाद में राजपूत समाज के लोगों ने गैंगस्टर आनंदपाल सिंह के पुलिस मुठभेड़ में मारे जाने की घटना को लेकर विरोध प्रदर्शन किया. प्रदर्शन के दौरान लोगों ने सीबीआई जांच की मांग की. इस दौरान प्रदर्शनकारियों की बुधवार को पुलिस से झड़प हो गई. प्रदर्शनकारियों ने एसपी पारस देशमुख की गाड़ी में आग लगा दी. पुलस ने उपद्रवियों को खदेड़ने के लिए रबर की गोलियों, आंसू गैस और लाठीचार्ज किया गया. 
 
एनकाउंटर का विरोध कर रहे लोगों की मांग है कि इसकी जांच केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) से कराई जाए. इसी मांग के लिए प्रदर्शन कर रहे लोगों में से 16 लोग उस वक्त घायल हो गए जब सड़कों पर उतरे थे. राजपूत समुदाय की मांग है कि आनंदपाल के एनकाउंटर की जांच CBI से कराई जाए.
 
 
अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) एन के आर रेड्डी के अनुसार सांवराद में लोगों के उपद्रव एवं पथराव करने से पुलिसकर्मियों सहित सोलह लोग घायल हुए हैं. जिनमें तीन की हालत गंभीर है और उन्हें जयपुर सवाई मान सिंह अस्पताल भेजा गया है. जबकि 13 घायलों को डीडवाना के अस्पताल में भर्ती कराया गया है.
 
 
हिंसा के बाद नागौर, चुरू, सीकर और बीकानेर में धारा 144 लगा दी गई है. गुरुवार तक के लिए चारों जिलों में इंटरनेट सेवा भी बंद कर दी गई है. दरअसल आनंदपाल के एनकाउंटर को फर्जी बताते हुए सीबीआई जांच की मांग को लेकर राजपूतों ने बुधवार को नागौर के सांवराद गांव में रैली का आह्वान किया था.