जयपुर : राजस्थान में पिछले पांच दिनों से चल रहा किसान आंदोलन सोमवार रात को खत्म हो गया है. इससे पूर्व मंत्रियों और किसान प्रतिनिधियों के बीच 11 घंटे तक चली बैठक में कई मुद्दों पर सहमति बनने के बाद भारतीय किसान संघ ने आंदोलन को वापस लेने का फैसला किया. इस महापड़ाव को समाप्त कर दिया. आंदोलन समाप्त होने के बाद अब प्रदेशभर में मंडिया खुलेंगी.
 
 
इन मांगों पर बनी सहमति
 
1) मानसून सत्र में एक दिन सिर्फ किसानों पर की जाएगी चर्चा
2) बिजली बिल दो महीने में जारी होंगे
3) 6 महीने तक कनेक्शन नहीं काटे जाएंगे और पैनल्टी भी नहीं लगेगी
4) किसानों पर दर्ज राजकार्य बाधा के मुकदमे वापस लिए जाएंगे
5) 25 जून तक प्याज खरदी केंद्र्र खुलेंगे
6) मूंग का समर्थन मूल्य बढ़ाकर 5,575 करने पर सहमति
7)मूंगफली का समर्थन मूल्य बढ़ाकर 4450 करने पर सहमति बनी 
8)समर्थन मूल्य से कम खरीद को अपराध की श्रेणी में लाया जाएगा
 
 
कर्ज माफी मामले में सरकार ने किसान संघ को फिलहाल कोई भरोसा नहीं दिया है. भारतीय किसान संघ की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष मणिलाल लबाना ने कहा कि सरकार ने किसान संघ की सभी प्रमुख मांगों को मान लिया है. गौरतलब है कि किसानों का ये महारपड़ाव 15 जून से जारी था.