नई दिल्ली. मुंबई की ज़िंदगी का अहम हिस्सा है मुंबई की लोकल ट्रेन. लोकल की रफ्तार थमते ही मुंबई के लोगों की ज़िंदगी भी रुक जाती है. मुंबई के लोगों ने लोकल की रफ्तार के साथ समय को पीछे छोड़कर भागने की आदत डाल ली है. लेकिन, देखा जा रहा है कि यही लोकल ट्रेन मुंबईकरों की ज़िंदगी पर हमेशा के लिए ब्रेक लगा रही है. 

हर दिन हादसे होते हैं. आलम ये है कि रोज़ लोकल ट्रेन में करीब 20 हादसे होते हैं, जिनमें करीब 10 लोग काल के गाल में समा जाते हैं. आज अभियान में सवाल यही है कि आखिर क्यों लोकल ट्रेन हादसों की ट्रेन बनती जा रही है ? ( पूरा शो देखने के लिए वीडियो पर क्लिक करें)