श्रीनगर: कश्मीर में हिंसा के लिए अलगांववादियों को पाकिस्तान से मिलने वाली फंडिंग की जांच करने के लिए राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) श्रीनगर पहुंच चुकी है. शुक्रवार को एनआईए वहां पहुंचते ही तीन अलगाववादी नेताओं फारूक अहमद, तहरीक ए हुर्रियत के गाजी जावेद बाबा और नईम खान का नाम शामिल है. एनआईए ने इन तीनों को समन जारी कर पेश होने को कहा है.
 
इस मामले में जांच एजेंसी हुर्रियत की फंडिंग की जांच शुरू भी कर दी है. नईम खान वही नेता है जिसने के न्यूज चैनल पर दिखाए पर स्टिंग ऑपरेशन में कैमरा पर पैसा के बदले हिंस भड़काने की बात स्वीकारते हुए देखा गया था. एनआईए इस जांच में लश्कर-ए-तैयबा के अध्यक्ष हाफिज सईद और कट्टरपंथी कश्मीरी अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी की भूमिका की भी जांच कर रही है.
 
पिछले साल जुलाई से बढ़ा है तनाव
घाटी में पिछले एक साल में तनाव ज्यादा बढ़ गया है. क्योंकि पिछले साल 8 जुलाई को सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में इंडियन मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी को मारा गया था. जिसके बाद से कश्मीर में हिंसा की घटनाओं में तेजी से वृद्धि देखने को मिली है.