नई दिल्ली: राजधानी में प्रॉपर्टी में निवेश करने वालों के लिए अच्छी खबर है. लंबे समय से अटकी दिल्ली लैंड पूलिंग पॉलिसी को हरी झंडी मिल गई है. यानी अब दिल्ली में नए-नए मकान दिखेंगे. और प्रॉपर्टी बाजार में एक बार फिर रंगत नज़र आएगी. डीडीए की योजना अमल में आई तो दिल्ली में गांवों की तस्वीर बदल जाएगी.
 
दिल्ली में योजना के हिसाब से 24 लाख मकान बनाया जाना प्रस्तावित है. सब कुछ योजना के मुताबिक रहा तो दिल्ली में घर खरीदने का सपना जल्द ही साकार हो सकता है. बता दें कि लैंड पॉलिसी योजना पिछले डेढ़ साल से बनकर तैयार थी लेकिन सरकार से हरी झंडी नहीं मिलने के कारण इस पर अमल नहीं हो पा रहा था. योजना के हिसाब से दिल्ली के 89 गांवों को शहरीकृत क्षेत्र का दर्जा मिलने के साथ ही इसे अमल में लाने का सपना साकार होगा. इस योजना के तहत दिल्ली के बाहरी इलाकों में विकास को रफ्तार मिलेगी,
 
लैंड पूलिंग पॉलिसी से मिलेगा ये फायदा
इसके अमल में आने से दिल्ली में 24 लाख मकान बन सकेंगे.दिल्ली में घर के लिए भटक रहे लोगों को छत मुहैया होगी.उत्तरी दिल्ली के 50 गांव और दक्षिणी दिल्ली के 39 गांवों को अब शहरों का दर्जा मिल जाएगा. इन इलाकों को शहरीकृत ग्रामीण इलाके का दर्जा मिलने के बाद, अब यहां सरकार की लैंड पूलिंग योजना के तहत किसान से डेवलपर समझौता करके जमीन पर अलग-अलग योजनाओं से जुड़े प्रोजेक्ट को अंजाम दे सकेंगे.
 
योजना पर साल 2015 के मई महीने में ही केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय की ओर से मुहर लग चुकी है. इसमें विकसित जमीन का लगभग 12 फीसद हिस्सा सामुदायिक कार्यों के लिए दिल्ली सरकार को दिए जाने, स्टांप ड्यूटी भी माफ करने की योजना है.