इलाहाबाद : उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद में एक साहूकार से सिर्फ 1800 रुपए का कर्ज लेना इस परिवार को काफी मंहगा पड़ गया. साहूकार की मनमानी तो देखिए  अब वह 1800 रुपए के बदले चार लाख रुपए देना का दबाव बना रहा है.
 
गौरतलब है कि यूपी के कौशाम्बी जिले में रहने वाले इस मजदूर परिवार ने दादी के अंतिम संस्कार के लिए साहूकार से सिर्फ 1800 रुपए का कर्ज लिया था.  साहूकार अब मजदूर परिवार से चार लाख रुपए या उनके घर पर कब्जा करने का लगातार उनपर दबाव बना रहा है. अब पीड़ित परिवार न्याय की आस लिए पुलिस अधिकारियों के कार्यालयों के चक्कर काट रहा है. वहीं पुलिस जांच में उलझकर पीड़ित परिवार को दर-दर की ठोकर खाने को मजबूर कर रही है.
 
कौशाम्बी जिला के उरई असरफपुर गांव के राम कैलाश और उनकी पत्नी राजकुमारी मजदूरी कर अपना और दो बच्चों का पेट बड़ी मुश्किल से पाल रहे हैं. आज से चार वर्, पूर्व राजकुमारी की दादी का देहांत हो गया था. जिस वक्त ये घटना हुई उस वक्त राम कैलाश पैसे कमाने के लिए गुजरात गए हुए थे. घर में पैसों की कमी होने के चलते शाम तक शव घर में ही पड़ा रहा.
 
मजबूर होकर राजकुमारी ने साहूकार से 1800 रुपए का कर्ज लिया. बता दें कि साहूकार ने 1800 की नकदी नहीं बल्कि इतनी ही रकम का सामन अंतिम संस्कार के लिए राजकुमारी को दे दिया. साहूकार के हाथों अपना घर जाते देख राम कैलाश ने पुलिस का दरवाजा खटखटाया, एक सप्ताह पहले की गई शिकायत में पुलिस ने कोई भी ठोस कदम नहीं उठाया.
 
बता दें कि साहूकार ने अपने आदमी भेजकर राम कैलाश पर दो दिन के भीतर घर खाली कर देने की धमकी दे दी है. इस मामले में कौशाम्बी के एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि स्थानीय पुलिस को निर्देश दिया गया है कि वह इस पूरे मामले की जांच कर मामला दर्ज करें.