रेवाड़ी : हरियाणा के रेवाड़ी जिले के गोठड़ा टप्पा डहेना गांव की करीब 80 स्कूली छात्राएं लगातार 7 दिन से (10 मई) भूख हड़ताल पर बैठी हैं. उनकी मांग है कि उनके गांव के सरकारी स्कूल को 10वीं कक्षा से बढ़ाकर 12वीं तक किया जाए. आज इन छात्राओं को समर्थन देने के लिए बीेएसएफ से बर्खास्त सैनिक तेज बहादुर यादव भी पहुंचे. 
 
छात्राओं का कहना है कि स्कूल गांव से 3 किलोमीटर दूर है, रास्ते में शरारती तत्व छेड़खानी व फब्तियां कसते हैं. रोज-रोज की परेशानी से नाराज छात्राएं गांव के ही स्कूल को अपग्रेड कराने की मांग को लेकर भूख हड़ताल पर बैठ गई.
 
छात्राओं का कहना है कि जब तक स्कूल अपग्रेड नहीं होगा, वे भूख हड़ताल नहीं तोड़ेंगी. लड़कियां को कहना है कि उन्होंने अपनी इस समस्या के बारे में गांव के सरपंच से भी शिकायत की थी, जिन्होंने इस मामले को आगे भी बढ़ाया पर कोई हल नहीं निकला. इसलिए लड़कियों ने यह मांग उठाई है कि उनके गांव के ही स्कूल को बारहवीं कक्षा तक अपग्रेड किया जाए और इसी मांग की पूर्ति के लिए वे भूख हड़ताल कर रही हैं.
 
आमरण अनशन पर बैठी छात्राओं में से 5 की तबीयत फिर बिगड़ गई है. शनिवार की रात को 3 और रविवार की सुबह 2 छात्राओं को अस्पताल में भर्ती में कराया गया. हैरत की बात यह भी है कि प्रदेश सरकार व जिला प्रशासन इतने बड़े आंदोलन व छात्राओं की बिगड़ती हालत के प्रति कतई लापरवाह है. वहीं भूख हड़ताल पर बैठी छात्राओं का कहना है कि स्कूल 12वीं तक अपग्रेड करो, नहीं तो वे मरने से भी नहीं घबराएंगी.
 
बता दें कि रेवाड़ी जिले के गांव गोठड़ा टप्पा डहीना में 10वीं तक का सरकारी स्कूल है. 12वीं तक की शिक्षा के लिए छात्राओं को 3 किलोमीटर दूर कंवाली जाना पड़ता है. इस दौरान उनके साथ आते-जाते छेड़छाड़ की जाती है. कई छात्राओं ने इस परेशानी के चलते पढ़ाई छोड़ दी. लेकिन गांव की कुछ साहसी छात्राओं ने सरकार व प्रशासन की नींद खोलने के लिए आमरण अनशन का निर्णय लिया है.