वाराणसी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र में सरसों तेल ने अब तक के सभी रिकार्ड तोड़ दिए. बाजार में कच्चे माल (सरसों) की कमी से मूल्य में वृद्धि हुई है. ब्रांडेड तेल की कीमत 1,350 से बढ़कर 1,650 रुपये प्रति टिन पहुंच गया है. सामान्य सरसों तेल 1,300 रुपये प्रति टिन से उछलकर 1,500 रुपय प्रति टिन हो गया. फुटकर बाजार में प्रति किलो बीस रुपए की बढ़ोतरी हुई है. 

अब एक लीटर सरसों तेल 110 रुपये जबकि प्रति किलो 125 रुपये में बिक रहा है. कुछ दुकानदार इसे मनमानी दर पर बेच रहे हैं. खुदरा मार्केट में रिफाइंड 80 रुपए व वनस्पति 60 रुपए प्रति लीटर है. पिछले एक माह से सरसों तेल की कीमत में मामूली उतार-चढ़ाव के साथ ही स्थिरता बनी रही लेकिन इधर बीस दिनों से आपूर्ति कम होने से फुटकर बाजार गरम है. 

बनारस के सरसों तेल कारोबारी अरुण गुप्ता ने बताया कि जून में बाजार में अचानक तेजी की वजह पिछले दिनों बेमौसम बारिश रही. बारिश का असर बाजार में दिखने लगा है. पिछले वर्ष की तुलना में इस बार उत्पाद में करीब 20 लाख टन की कमी आई है. इससे कच्चा माल (सरसों) पर्याप्त और उचित दाम में नहीं मिल पाया. (IANS)