नासिक/ अमरावती. महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटे में दो सांप्रदायिक दंगे भड़के. पहला मामला नासिक का है, जबकि हिंसा की दूसरी घटना अमरावती जिले में हुई. दोनों घटनाओं में दो लोगों की मौत हो गई, जबकि कुछ पुलिस अफसरों समेत कई लोग घायल हो गए.

क्या है दोनों मामले
हिंसा की पहली घटना नासिक के पेठ तहसील के हरसुल गांव में हुई. संयोग की बात यह है कि इसी वक्त सिंहस्‍थ कुंभ मेले के उद्घाटन के लिए केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह और राज्‍य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस भी शहर में आए हुए थे. दरअसल, एक हफ्ते पहले भगीरथ चौधरी का शव गांव के जुबेर शेख के कुएं में मिला. चौधरी के घरवालों ने शेख के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज करवाया. पुलिस द्वारा आरोपियों को गिरफ्तार न करने से नाराज चौधरी के घरवालों ने मंगलवार को तोड़फोड़ शुरू कर दी. एक पक्ष के लोगों ने दूसरे पक्ष के लोगों की दुकानों में पहले तोड़फोड़ की और फिर वहां खड़ी गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया.

पुलिस को भीड़ को काबू करने के लिए गोलियां चलानी पड़ी. इस गोलीबारी में घायल हुआ रामदास बुधर की हॉस्पिटल में इलाज के दौरान मौत हो गई. इसके बाद एक पक्ष का गुस्सा और भड़क गया. लोगों ने मौके पर मौजूद पुलिसवालों की पिटाई शुरू कर दी और उनकी गाड़ियां तोड़ डालीं. इस घटना में तीन सीनियर पुलिस अधिकारी और 17 कॉन्स्टेबल घायल हो गए.

उधर अमरावती के कारंजा लाड़ तहसील में सुबह कोचिंग जा रही लड़की से कुछ लड़कों ने छेड़खानी की थी. कुछ लोगों ने आरोपियों को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया. थाने से लौटते वक्त इन्हीं लोगों ने छेड़खानी के आरोपी बबलू की जमकर पिटाई कर दी. बाद में उसकी मौत हो गई. यह खबर फैलते ही शहर में दो संप्रदायों में हिंसक झड़पें हुईं. इसमें कई लोग घायल हो गए. मंगलवार देर रात मृतक के पिता की शिकायत पर पुलिस ने पांच लड़कों को गिरफ्तार कर लिया. उधर, इलाके में फैले तनाव के मद्देनजर पूरे इलाके में अतिरिक्त पुलिस बल की तैनाती कर दी गई.

एजेंसी