नई दिल्ली: बीते दिनों देश के कई इलाकों में कश्मीरी युवाओं के साथ मार-पीट और बदसलूकी की घटनाएं देखने को मिली हैं. इसे लेकर गृह मंत्रालय ने कश्मीरी छात्रों की सुरक्षा को सुनिश्ति किया है और कहा है कि कश्मीरी युवा अपने अधिकार क्षेत्र के तहत ही शैक्षणिक संस्थानों में पढ़ाई कर रहे हैं. 

इस मामले में गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को कश्मीरी छात्रों की सुरक्षा को सुनिश्चित करने को कहा है. मंत्रालय ने कहा है कि कश्मीरी भी भारत के ही नागरिक हैं. अगर उनके साथ किसी तरह की बदसलूकी की जाएगी, तो उसपर कड़ी कार्रवाई की जाएगी. 
 
सूत्रों की मानें, तो इस मामले पर पीएम मोदी बीजेपी शासित राज्यों के मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्रियों के साथ 23 अप्रैल को बैठक करने वाले हैं. 
 
आपको बता दें कि बीते दिनों भारतीय सेना पर पत्थरबाजी के विरोध में राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में मेवाड़ यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले कश्मीरी स्टूडेंट्स के साथ कुछ स्थानीय लोगों ने मारपीट की थी, जिसमें 6 कश्मीरी घायल हो गए थे. इसके अलावा यूपी के मेरठ में कश्मीरी स्टूडेंट्स के बहिष्कार करने का ऐलान किया गया, जिसमें पोस्टर लगाकर कश्मीरियों को मेरठ छोड़ने की चेतावनी दी गई थी. 
 
हालांकि, इस मामले पर गृह मंत्री राजनाथ सिंह काफी सख्त दिखे और उन्होंने दो टूक में कहा कि अगर किसी कश्मीरी छात्रों के साथ कोई बदसलूकी करता है, तो उसके ऊपर कड़ी कार्रवाई की जाएगी.