वाराणसी:  अगर आप व्हाट्सऐप और फेसबुक पर कुछ भी भेजने से पहले नहीं सोचते हैं, तो इस खबर को जरा ध्यान से पढ़ लें. सोशल मीडिया पर अब अगर अफवाह फैलाने वालों की खैर नहीं होगी, क्योंकि अब अगर किसी भी व्हाट्सऐप ग्रुप और फेसबुक ग्रुप में आपत्तिजनक और अफवाह जनक कंटेंट मिलते हैं, तो उस ग्रुप के एडमिन को जेल की हवा भी खानी पड़ सकती है. 
 
बताया जा रहा है कि वाराणसी के जिलाधिकारी योगेश्वर राम मिश्र और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक नितिन तिवारी ने एक संयुक्त आदेश में कहा है कि अगर गलत तथ्यों, अफवाह और भ्रामक सूचनाएं सोशल मीडिया के किसी ग्रुप पर शेयर की जाएंगी, तो ग्रुप एडमिनेस्ट्रेटर के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया जा सकता है और एडमिन को जेल भी भेजा जा सकता है.
 
बता दें कि हाल ही में बिहार के भागलपुर जिला प्रशासन ने व्हाट्सएप और फेसबुक ग्रुप चलाने वाले ग्रुप एडमिन के लिए नए और सख्त निर्देश जारी किए थे. जिसमें कहा गया था कि किसी भी ग्रुप के एडमिन को ग्रुप के सभी सदस्यों की जानकारी रखनी होगी और इस तरह के कंटेंट से बचना होगा.
 
आपको बता दें कि सोशल मीडिया एक ऐसा प्लेटफॉर्म है, जहां कोई ग्रुप बनाया जा सकता है और उसके सदस्य अपने विचार, फोटो और विडियो शेयर कर सकते हैं. मगर अब इसमें सावधानी बरतने की जरूरत है. क्योंकि पिछले दिनों यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लेकर इसी तरह के आपत्तिजनक कंटेंट को लेकर कई लोगों के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज की गई थी.