बालाघाट. मध्य प्रदेश के पत्रकार संदीप कोठारी की मौत के मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बड़ा खुलासा हुआ है. शुक्रवार को आई पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कहा गया है कि कोठारी को 19 जून को जिला मुख्यालय से 40 किलोमीटर दूर कटंगी क्षेत्र से अगवा किया गया था.

इसके बाद उनका जला हुआ शव महाराष्ट्र के वर्धा जिले में रेलवे लाइन के पास से बरामद हुआ था. कोठारी का शव बरामद होने के बाद से उनकी हत्या को लेकर कई सवाल उठ रहे थे. लेकिन शुक्रवार को शव की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद यह साफ हो चुका है कि उन्हें जिंदा जलाया गया था. बालाघाट के पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी ने शनिवार को बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक, नाक व मुंह दबाने से कोठारी का दम घुट गया था और श्वास नलिका टूट गई थी. जब उन्हें जलाया गया, तब वह अद्र्घमूर्छित अवस्था में थे और उनकी सांस चल रही थी. इसी वजह से उनके फेफड़ों में कार्बन के कण मिले हैं.

पत्रकार कोठारी हत्याकांड के सभी सात आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है. हत्याकांड की जांच के लिए विशेष जांच दल (एसआईटी) गठित किया गया था, जो मामले की छानबीन कर रहा है. मीडिया कोठारी की हत्या की वजह बालाघाट में माफिया गिरोह के खिलाफ चलाए जा रहे उनके अभियान को मान रहा है. कोठारी ने मैगनीज माफिया के खिलाफ कई खबरों का खुलासा किया था, जो समाचार पत्रों में प्रकाशित हुई थीं.

IANS