भोपाल. गुजरात और बिहार की तरह अब मध्य प्रदेश में भी शराब पर पूरी तरह से प्रतिबंध की तैयारी की जा रही है. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने ऐलान किया है कि राज्य में शराब पर प्रतिबंध चरणबद्ध तरीके से शुरू किया जाएगा.
नरसिंहपुर जिले में  सीएम शिवराज सिंह ने कहा ‘ शराब पर पूरी तरह से प्रतिबंध के लिए ठेकों को चरणबद्ध तरीके से बंद किया जाएगा.’ सीएम ने यह बात नदी संरक्षण जागरुकता अभियान ‘नमामि देवी नर्मदा- नर्मदा सेवा’ पर आयोजित कार्यक्रम में कही है.
उन्होंने कहा कि पहले चरण में नर्मदा के किनारे बनीं सभी दुकानों को बंद किया गया है. दूसरे चरण में शराब की दुकानों को रिहायशी इलाके, शिक्षा संस्थानों और धार्मिक स्थलों के पास से हटा दिया जाएगा. इसके साथ नशा मुक्ति अभियान भी पूरे राज्य में जल्द ही चलाया जाएगा.
आपको बता दें कि पिछले एक महीने में शराब की दुकानों के खिलाफ कई प्रदर्शन हो चुके हैं. पांच अप्रैल को ही रायसेन जिले में आगजनी की घटना हो चुकी है. यह मामला उस समय सामने आया जब आबकारी विभाग हाइवे के किनारे स्थित एक दुकान को हटाकर गांव में शिफ्ट कर रहा था.
इससे पहले 3 अप्रैल को इंदौर को बीजेपी विधायक सुदर्शन गुप्ता पूरे राज्य में शराब पर प्रतिबंध की मांग कर चुके हैं. इसके अलावा इंदौर, सागर, बुरहानपुर, छतरपुर, विदिशा, नरसिंहपुर, सतना, मोरना, देवास में कई प्रदर्शन हो चुके हैं.
गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया है कि हाइवे किनारे खुली शराब की दुकानों को तत्काल बंद कर दिया जाए. इसके बाद से इन सभी दुकानदार पास के गांवों की ओर भागने लगे हैं और गांव की महिलाएं इनके खिलाफ प्रदर्शन कर रही हैं.