सोनीपत. पूरे देश में गौरक्षा के नाम पर मारकाट मची हुई है. कई हिंदू कट्टरपंथी संगठनों के निशाने पर अल्पसंख्यक समुदाय के लोग हैं. लेकिन हरियाणा के जिले सोनीपत के गांव खरखौदा में एक मुस्लिम परिवार ने अपनी बेटी की शादी में दहेज में गाय दी है.
लड़की के पिता नूर खान ने  बताया कि उनकी बेटी गुलसना को गायों से बहुत लगाव है. वह गायों की बहुत सेवा करती है. इसलिए उन लोगों ने फैसला किया बेटी को जब विदा करेंगे तो साथ में उसकी गाय भी दे देंगे. गाय को लेकर मचे बवाल के बीच मुस्लिम परिवार की ओर से की यह पहल दिल को सकून देती है.
वही बेटी ने भी अपने पिता के इस फैसले से भावुक हो गई. इतना ही नहीं इस मौके पर पिता नूर खान ने रिवाज के अनुसार शादी की और फिर बाद में स्वामी गोपालदास को बुला गाय को दान दिया है.
नूर खान के इस फैसले की तारीफ हर जगह पर हो रही है.लोगों का कहना है इससे मुस्लिम समाज को लेकर नजरिए में बदलाव होगा.
गौरतलब है कि हरियाणा, राजस्थान और गुजरात सहित पूरे देश में इस समय गौरक्षा के नाम पर मुस्लिम और दलित समुदाय के खिलाफ हिंसा की घटनाएं सामने आ रही हैं.
यूपी में योगी सरकार ने अवैध बूचड़खानों के खिलाफ कार्रवाई क्या शुरू हर कोई कानून हाथ में लेने पर उतारू हो गया है. जबकि प्रशासन की ओर से बार-बार कहा जा रहा है कि गौरक्षा का काम सिर्फ पुलिस का है और अगर किसी को भी कोई जानकारी मिलती है तो बजाए मारपीट के पुलिस को इसकी सूचना दे.
पीएम मोदी ने भी इन कथित गौरक्षकों को कई बार नसीहत दी है लेकिन ऐसी घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं. राजस्थान के अलवर में पहलू खान का मामला तो संसद में भी उठ चुका है.