नई दिल्ली : नकल और परीक्षा परिणाम को लेकर विवादों में रही बिहार की परीक्षा एक बार फिर चर्चा में है. इंटर की परीक्षा के बाद शिक्षकों ने कॉपियों की जांच करने से इनकार कर दिया है. 
 
बिहार भर के जिलों में बनाये गए सभी मूल्यांकन केंद्रों पर कॉपियों की जांच की सभी तैयारियां हैं लेकिन शिक्षक केंद्र के बाहर धरने पर बैठे हैं. हाजीपुर में बनाये गए दो मूल्यांकन केंद्रों पर शिक्षक धरने पर बैठे हैं जिसके चलते दो दिन गुजर जाने के बाद भी इंटर की कॉपियों की जांच नहीं हो पा रही है. 
 
 
देर आ सकता है परीक्षा परिणाम 
बिहार इंटर काउंसिल ने सभी केंद्रों पर कॉपियां भेज दी हैं और केंद्रों पर पुलिस और मजिस्ट्रेट की तैनाती के साथ सभी तैयारियां हैं लेकिन हड़ताली शिक्षकों की वजह से अब ये लग रहा है की परीक्षा परिणाम आने पर संकट आ गया है. 
 
शिक्षक सामान काम के लिए सामान वेतन और स्थाई वेतनमान की मांग को लेकर हड़ताल पर हैं. हड़ताली शिक्षकों का कहना है की बेशक परीक्षा के नतीजे देने में देर हो जाए लेकिन जब तक उनकी मांगे नहीं मानी जायेंगी वे हड़ताल जारी रखेंगे. ऐसे में इस साल इंटर के परीक्षा परिणाम में देर हो जाय तो कोई अचरज नहीं.